Thursday, August 17, 2017

स्याही

सुबह सुबह
दर्द की दवात
लेकर चली थी
अपने साथ

तुम्हारी यादें
जो मुझसे टकराई

सारा दर्द
फैल गया
स्याही के साथ

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home